Saturday , 25 May 2019
Loading...
Breaking News

आइए जानते है क्या होता है CCI?

भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर एक अच्छी समाचार आ रही है ग्लोबल कंज्यूमर कॉफिडेंस सर्वे में हिंदुस्तान पहले पायदान पर है यह नेल्सन के सर्वे में पता चला हैऔनलाइन आयोजित इस सर्वे में 64 राष्ट्रों के 32 हजार उपभोक्ताओं ने भाग लिया था हिंदुस्तान का कंज्यूमर कॉफिडेंस इंडेक्स (CCI) 133 है दूसरे पायदान पर 131 अंकों के साथ फिलिपिंस  127 अंकों के साथ इंडोनेशिया तीसरे पायदान पर है सर्वे के हिसाब से दक्षिणी कोरिया के उपभोक्ता सबसे ज्यादा निराशावादी हैं इसकी वजह है कि वहां के लोग बढ़ती महंगाई, वेतन में कम वृद्धि, स्टॉक बाजार के निर्बल प्रदर्शन  बेरोजगारी की समस्या से डरे हुए हैं सर्वे के मुताबिक ग्लोबल कंज्यूमर कॉफिडेंस इंडेक्स 107 है जो पिछले 14 वर्षों में सबसे ज्यादा है

क्या होता है CCI?
नेल्सन की तरफ से 2005 से ही हर वर्ष इस सर्वे का आयोजन किया जाता है उपभोक्ता ही अर्थव्यवस्था  व्यापार के आत्म हैं ऐसे में यह जानना महत्वपूर्ण है कि उपभोक्ताओं का सेंटिमेंट कैसा है खर्च करन को लेकर वे कितने विश्वास में हैं अगर अर्थव्यवस्था पर उनका विश्वास है तो वे खर्च करने में नहीं हिचकिचाएंगे, लेकिन विश्वास डगमगाने पर उपभोक्ता खर्च करने में हिचकिचाते हैं  उनका फोकस सेविंग पर चला जाता है

खर्च करने के लिए महत्वपूर्ण है कि उपभोक्ता को आमदनी हो इसके लिए महत्वपूर्ण है कि रोजगार, वेतन में बढ़ोतरी  मार्केट में निवेश का प्रवाह बरकरार रहे अगर ये परिस्थितियां अनुकूल होंगी तो उपभोक्ता खर्च भी करते हैं  ये कारक अर्थव्यवस्था के लिए सकारात्मक माने जाते हैं कुल मिलाकर अगर कंज्यूमर कॉफिडेंस इंडेक्स में अगर इजाफा हो रहा है तो मतलब साफ है कि अर्थव्यवस्था के इशारा सकारात्मक हैं

रिपोर्ट में बोला गया है कि नॉर्थ अमेरिका (जिसे यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका/USA)को छोड़कर विकसित अर्थव्यवस्था वाले राष्ट्रों के उपभोक्ता अमूमन कम आशावादी होते हैंयूरोपीय राष्ट्रों का CCI 90 से भी कम है इसके मुकाबले एशियन राष्ट्रों का CCI इससे कहीं ज्यादा है

हालांकि, रिपोर्ट के मुताबिक चाइना का कंज्यूमर कॉफिडेंस इंडेक्स तो बहुत ज्यादा अच्छा है लेकिन रिटेल स्पेंडिंग डाटा के मुताबिक, वहां के उपभोक्ता कम खर्च कर रहे हैं इसकी बहुत बड़ी वजह अमेरिका  चाइना के बीच जारी व्यापारिक गतिरोध है इसके अतिरिक्त चाइना में रोजगार के आंकड़े बहुत मजबूत नहीं है

loading...